Sat. Jul 20th, 2024

आप सभी पशुपालक साथियों का आज की इस पोस्ट में स्वागत है | देखिये मानसून 2024 ( Monsoon 2024 ) अब आने ही वाला है और काफी स्थानों पर आ भी चूका है | इस मानसून पशुपालकों को काफी सारी बातों का ध्यान रखना होगा | आज की इस पोस्ट में हम इसी विषय पर चर्चा करेंगे |

पशुपालक साथियों अगर जरा सी लापरवाही हो जाए तो बरसात के मौसम में पशुपालकों को बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है | देखिये कई जानलेवा संक्रमित बीमारियां भी बरसात के मौसम में ही पशुओं पर अटैक करती हैं और कई बार तो बड़ी संख्या में पशुओं की मौत तक हो जाती है | लेकिन आपको इस सब से निपटने के लिए जरूरी है कि पशुपालक एनिमल एक्सपर्ट की ओर से जारी होने वाली एडवाइजरी का अवश्य ही पालन करें |

यह भी पढ़ें :- अब टिश्यू कल्चर तकनीक से केले की खेती से बढ़ेगा मुनाफा जाने इसके फायदे कर खासियत

देखिये ये पशुधन जैसा की इसके नाम से ही पता चल रहा है | दुधारू पशु ही पशुपालक का असली धन होता है इसलिए मानसून , गर्मी , सर्दी कैसा भी मौसम हो पशुपालक को अपने पशुओं की देखभाल ( Animal Care ) अच्छे से करनी चाहिए | सही से देखभाल न करने के कारण पशुपलक को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है | कई बार तो पशु की मौत भी हो जाती है |

मानसून 2024

मानसून 2024 ( Monsoon 2024 ) में पशुपालक इन बातों को ध्यान रखें

  1. पशुओं के लिए पानी स्टोर करें :- पशुपालक साथियों बारिश होने और जलभराव होने पर सबसे पहले बहुत सारा पानी प्रदूषि‍त हो जाता है और ऐसा पानी पीने के चलते ही पशु कई तरह की संक्रमित बीमारियों की चपेट में भी आ जाता है | इसलिए आप बरसात के दौरान पानी का स्टोर जरूर करें |
  2. पशु को खुला बिलकुल भी न चराएं :- देखिये अब बरसात के दौरान जब जलभराव होता है तो वो कई-कई दिन तक रहता है | खेत और चारागाहों में भी पानी भर जाता है इसलिए इस दौरान पशुओं को खुले में आप बिलकुल भी ना चराएं | क्योंकि पानी भरने से हरा चारा सड़ जाता है और ऐसा चारा खाने से पशु बीमार भी पड़ जाता है |
  3. पशु के लिए सुरक्षित शेड का निर्माण करना :- दोस्तों बरसात में जलभराव होने पर पशुओं के लिए बैठना तो दूर खड़े होने की भी जगह नहीं होती है | इसलिए पशुओं का शेड थोड़ी ऊंची जगह पर बनाएं और पशुओं को बारिश के पानी में भीगने से भी बचाने का इंतजाम अवश्य करें |
  4. पशु वेका क्सीनेशन जरूर करवाएं :- पशुपालक साथियों बरसात और जलभराव के दौरान पशुओं को कई जानलेवा संक्रमित बीमारी होने का खतरा भी बना रहता है | इसलिए ये जरूरी है कि पहले से ही पशुओं को डॉक्टर की सलाह पर जरूरी वैक्सीन लगवा दें | क्योंकि पशुओं में बहुत सारी ऐसी बीमारी हैं जिनका इलाज नहीं सिर्फ रोकथाम है और वो भी वैक्सीनेशन से |
  5. हे और साईलेज बनाकर चारे का प्रबंध करें :- देखिये बारिश के दौरान हरा चारा खराब भी हो जाता है और उसमे नमी की मात्रा भी बढ़ जाती है इसलिए बरसात के दौरान होने वाले हरे चारे का साइलेज और हे बनाकर आप स्टोर कर सकते हैं और साथ ही इस दौरान पशुओं को सिर्फ हरा चारा ना खि‍लाएं, उसमे सूखा चारा भी आप जरूर मिला लें |
  6. सभी पशुओं की टैगिंग भी करवाएं :- दोस्तों बरसात के दौरान ही नहीं आम दिनों में भी दुधारू पशु के लिए रजिस्ट्रेशन यानि टैगिंग कराना बहुत ही जरूरी है क्योंकि अगर पशु की टैगिंग कराई है तो उसके चलते हर तरह की सरकारी मदद मिलने में भी आसानी रहती है जैसे टैगिंग हो तो वैक्सीनेशन भी आराम से हो जाता है और बीमा होने और बीमा की रकम मिलने में आसानी, पशु खो जाए या चोरी हो जाए तो मिलने में भी आसानी हो जाती है | इसके अलावा सरकारी लोन वाली स्कीम मिलने में भी बहुत आसानी रहती है |

पशुओं का हरा चारा यहाँ उपलब्ध है :- Kisan Napier Farm

किसान साथियों ये थे मानसून 2024 ( Monsoon 2024 ) में पशुओं की देखभाल ( Animal Care ) की जानकारी | उम्मीद करते हैं पशुओं की देखभाल ( Animal Care ) की जानकारी पसंद आयी होगी | अगर आपको आज की ये जानकारी पसंद आयी तो आप इस जानकारी को ज़्यादा से ज़्यादा किसान साथियों के साथ फेसबुक ग्रुप्स और व्हाट्सप्प ग्रुप्स के माध्यम से शेयर करें | क्योंकि इसी तरह की जानकारी आपको हर रोज़ हमारी इस वेबसाइट पर देखने को मिलती रहेगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *