Sat. Jul 20th, 2024

नमस्कार किसान साथियों आज की इस पोस्ट में आप सभी का स्वागत है | दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको खेती बाड़ी की जानकारी kheti badi ki jankari देंगे | देखिये किसान साथियों खेती बाड़ी का हमारे देश के विकास में काफी महत्वपूर्ण रोल है |

हमारे देश की अर्थव्यवस्था में भी खेती बाड़ी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है | दोस्तों काफी सारे किसान साथी हैं जो खेती बाड़ी से सम्बंधित जानकारी kheti badi ki jankari लेना चाहते हैं | देखिये काफी सारे किसान साथी हैं जो काफी सालों से खेती करते आ रहें है लेकिन आधुनिक समय में किसान को भी आधुनिक होना पड़ेगा |

किसान को अपने खेती करने के तरीके में बदलाव करना पड़ेगा | किसान को अपने खेत की फसलों में बदलाव करना पड़ेगा | किसान एक ही तरह की फसलें अपने खेती में हर साल लगाता है | लेकिन आज के समय में ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए किसान को अपनी खेत की फसलों में बदलाव करना होगा |

दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपको कुछ ऐसी फसलों के बारे में बताएँगे जिनको आप अपने खेत में लगाकर काफी अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं | आज हम गेहूं , सरसों और नेपियर घास के बारे में बात करेंगे | देखिये किसान साथियों गेहूं की काफी सारी वैरायटी है जिनसे अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है | इसके साथ ही आज की समय में नेपियर घास की खेती करके किसान न केवल अपने पशुओं की चारे की कमी को पूरा कर रहें है बल्कि उसके साथ – साथ नेपियर घास के बीज को बेचकर पैसे कमा रहे हैं |

तो दोस्तों आज हम इसी विषय पर बात करेंगे की आप कैसे इस पप्रकार की खेती करके पैसे कमा सकते हैं | दोस्तों इस प्रकार की खेती की जानकारी निचे दी गयी है |

Kheti Badi Ki Jankari खेती बाड़ी की जानकारी :-

किसान साथियों सबसे पहले हम गेहूं के ऊपर चर्चा करेंगे | देखिये गेहूं की काफी सारी वैरायटी है जो किसानो के लिए मुनाफेदार साबित हो सकती है और इस प्रकार की गेहूं की पैदावार भी सामान्य गेहूं से ज़्यादा है | गेहूं की सब वैरायटी में से हम आज काली गेहूं की बात करेंगे | काली गेहूं किसानो के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है |

काली गेहूं :-

किसान साथियों पिछले कुछ समय में काली गेहूं काफी ज़्यादा चर्चा में थी लेकिन काफी सारे किसान साथी ऐसे हैं जिनको अब तक काली गेहूं की जानकारी नहीं है दोस्तों आपकी जानकारी के लिए हम आपको बतां दें की काली गेहूं एक बहोतो ही अच्छी गेहूं की वैरायटी है | इस वैरायटी का इस्तेमाल करके आप अच्छा मुनाफा कमा सकतें हैं |

काली गेहूं आम गेहूं के मुकाबले महंगा बिकता है और काली गेहूं में काफी सारे औषधीय गुण भी पाए जाते है | आपकी जानकारी के लिए हम आपको बतां दें की काली गेहूं में डायबिटीज के साथ साथ काफी सारी बिमारियों से लड़ने की क्षमता है |

इस गेहूं का रंग कला क्यों होता है ?

किसान साथियों आपके मन में ये सवाल जरूर आ रहा होगा की इस गेहूं का रंग काला क्यों होता है तो आइये दोस्तों हम आपको बताते हैं की इसका रंग कला क्यों होता है | देखिये कोई भी फल , सब्जी या फसल हो उसका रंग उसमे मौजूद प्लांट पिग्मेंट या रनजक कणों की मात्रा पर निर्भर करता है |

वैज्ञानिकों ने इस गेहूं का लैब में टेस्ट किया और उन्होंने ये पाया की इस गेहूं में एन्थोसेनिन नामक एक पिग्मेंट मजूद है | और ये एन्थोसेनिन ही है जिसके कारण फलों , सब्जियों या फसलों का रंग काला या बैंगनी हो हो जाता है | आपकी जानकारी के लिए बतां दें की एन्थोसेनिन एक नैचरल यानि की प्राकृतिक पदार्थ ही जो एंटीऑक्सीडेंट भी है और ये सेहत के लिए फायदेमंद भी माना जाता है |

kheti badi ki jankari

दोस्तों हमारे आम गेहूं में एन्थोसेनिन जहाँ सिर्फ 5 पीपीएम PPM होता है वहीँ इस काली गेहूं में एन्थोसेनिन की मात्रा 100 – 200 PPM के आसपास पायी जाती है | इससे ये साबित होता है की ये गेहूं मुनाफेदार होने के साथ साथ सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है |

दोस्तों इस काली गेहूं में एन्थोसेनिन के साथ साथ जिंक और आयरन भी पाया जाता है | आम गेहूं की तुलना में काली गेहूं में 60 फीसदी अधिक मात्रा में गेहूं पाया जाता है | इसके अलावा इसमें स्टार्च , प्रोटीन और अन्य पोषक तत्व लगभग समान मात्रा में पाए जाते है |

काली गेहूं की खेती कैसे की जाती है ?

आइये दोस्तों अब जानते हैं की आप काली गेहूं की खेती कैसे कर सकते हैं | इस गेहूं की बिजाई के लिए सामान्य गेहूं की तरह ही खेत को तैयार किया जाता है | आपको जहाँ तक हो सके इसमें जैविक खाद की प्रयोग करना चाहिए जैसे की जिप्सम , गोबर खाद , वर्मीकम्पोस्ट , हरी खाद आदि | इस तरह की खाद का प्रयोग आपको इसमें करना चाहिए |

इसकी बुवाई का उचित समय नवंबर के बीच में है | अगर आप इसकी बुवाई लेट करेंगे तो इसकी पैदावार घाट सकती है इसलिए सही समय पर आपको इसकी बुवाई करनी चाहिए |

सिंचाई :-

  1. दोस्तों इस गेहूं की पहली सिंचाई आपको इसकी बुवाई के 2 से 3 सप्ताह के बाद करनी है |
  2. इसके बाद फसल के फुटाव कर समय होगा |
  3. आपको इसकी तीसरी सिंचाई उस समय करनी है जब इसमें गांठे बन नई शुरू हो जाए |
  4. इसके बाद अगली सिंचाई आप इसकी बालियां निकलने से पहले करें |
  5. इसके बाद आखिरी सिंचाई आप उस समय करें जब इसके दाने पाक जाए |

काली गेहूं का भाव ?

दोस्तों आप सब ये जरूर जानना चाहते होंगे की आखिर इस काली गेहूं का भाव क्या है | आप इस गेहूं की अपने नजदीकी बाजार और नजदीकी मंडियों में भी बेच सकतें है | बिहार और उत्तर प्रदेश में काली गेहूं की बीज का भाव 70 से 80 रूपये प्रति किलो के हिसाब से बिकता है |

काली गेहूं की पैदावार अधिक है इसके कारण इस गेहूं की मांग भारत के काफी सारे राज्यों में बनी हुई है | फिलहाल मंडियों में ये गेहूं 5000 से 6000 रूपये प्रति क्विंटल के हिसाब से बिक रही है |

गुच्छे वाली सरसों :-

दोस्तों अब बात करते हैं गुच्छे वाली सरसों की | ये सरसों पिछले कुछ समय से काफी ज़्यादा चर्चा में है | कुछ किसान साथी इस वैरायटी को पाकिस्तान की वैरायटी बता रहे हैं जबकि कुछ किसान साथियों का कहना है की ये वैरायटी देशी है | दोस्तों सरसों की ये गुच्छेदार वैरायटी किसानों के लिए काफी ज़्यादा फायदेमंद साबित हो सकती है |

दोस्तों अगर हम इस वैरायटी की पैदावार की बात करें तो ये वैरायटी 15 से 20 क्विंटल प्रति एकड़ उत्पादन देती है | सरसों की इस वैरायटी में बालियान गुच्छे में आती हैं | देखिये किसान साथियों इस वैरायटी को हमने भी अपने खेत में इस बार लगाया है और हमें इसकी अच्छी पैदावार की उम्मीद है |

काफी सारे किसान साथी इस वैरायटी को अपने खेत में लगाकर अच्छा मुनाफा प्राप्त कर चुके हैं | दोस्तों पंजाब के के किसान साथी कृषणजीत अग्रवाल इस वैरायटी को पिछले 3-4 सालों से अपने खेत में लगा रहें हैं | और वे हर साल इस वैरायटी से अच्छा मुनाफा प्राप्त कर रहें है |

इस वैरायटी को हमने इस बार अपने खेत में लगाया है और समय समय पर हम आपको इसकी अपडेट देते रहेंगे |

नेपियर घास :-

दोस्तों नेपियर घास की खेती करके भी आप अच्छा मुनाफा प्राप्त कर सकतें है | नेपियर घास की पूरी जानकारी हम पहले भी हमारी वेबसाइट पर दे चुके हैं |

नेपियर घास की जानकरी के लिए यहां क्लिक करें :- नेपियर घास

नेपियर घास को खरीदने के लिए हमारी दूसरी वेबसाइट पर जाए यहाँ क्लिक करें :- Kisan Napier Farm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *